अनुगूँज 22: हिन्दुस्तान अमरीका बन जाए तो कैसा होगा – पाँच बातें

हिन्दुस्तान अमरीका बन जाए तो कैसा होगा – पाँच बातें । यह बीस-सुत्री कार्यक्रम जैसे स्टाईल में सजाकर पाँच बातें लिखना भी कसरत सा है, फिर भी चलो कोशिश करते है – बहुत दिनों बाद लिख रहा हूँ ना ।

आलोक जी, वैसे हम अमेरिका नईखे गईले । पर सपने देखने को मौका देने के लिए धन्यवाद , वैसे अपना भी कभी-कभी ऐसा ही मन होता है । लो मैनें आँखे बंद कर ली ।

अभी हमारा हिन्दुस्तान, उफ्फ् इंडिया, अमेरिका या और कुछ लग रहा है पता नहीं । पर बड़ा मस्त सीन बना है जनाब । अब हमें जो दिख रहा है वही बक रहा हूँ ।kshargram Anugunj

1. मेरे पास बैठी है मेरी पाँचवी गर्लफ्रेंड – मिनी । उसका मैं सातवां बाय-फ्रेंड हूँ । कहती है – ” व्हाई टू राईट फार अनुगूँज स्टफ , क्या मिलेगा उसमें तुम्हें । कौन केयर करता है – व्वाट यू राईट और नाट । कम हनी – लेट्स गो फार पार्टी ।” सबको पता है कि हमलोग शादी कभी नहीं कर सकते । अभी हमलोग लिभ-इन हैं । शादी, 40 साल का होऊँगा, तब देखा जाएगा । पर- हमारे पर-दादाजी स्वर्ग से देखकर सोचते होंगे – क्या एक ही पर-दादी के साथ जीवन काटा था उन्होंने, इर्ष्या से जल-भुन गये होंगे ।

2. हमारी अब अपनी कंपनी है – पहले हमलोग सर्विस प्रोभाईडर कंपनी हुआ करते थे । अब हमारी अपनी प्रोड्क्टस है । ब्लाग-नेटवर्किंग पर हमारी बिरादरी का साफ्टवेयर Narad Version 10.5 हमने ब्लागर को बेचा है । साफ्टवेयर में हमारी कंपनी के बारे में सुना तो स्वामीजी अपने प्राईवेट जेट लेकर सीधे झुमरीतिलैया आ बसे हैं । साफ्टवेयर सर्भिसिंग करते-करते गराज के मिस्तरी जैसे हमारी हाथ साफ हो चुकी है । यह अमेरिका वाले इंडिया में अभी बस हार्डवेयर प्रोभाडर कंपनी जैसे है ।

3. अरे भाई मजाक नहीं कर रहा हूँ – हजारों मोबाइल के टावर लगे है – पुरा हाई टेक है । झुग्गी – झोपड़ी में लैपटाप हैं । अब भी झुग्गी ही भोट-बैंक है भाई । सबकी आदर है यहाँ । बिजली के तार और हजारों किलोमीटर लाईन, – कोई जरुरत नाहीं । सबके – सब बन गये हैं सोलर पावर । उर्जामंत्री जी सुर्य भगवान के पक्के पुजारी है । हिन्दुस्तान के दिनों में बिजली के तारों की चोरी से परेशान, उन्ही को स्वपन में सोलर पावर का आईडिया दिखा है । वैसे सड़क की हालत कागजों पर अब भी एकदम झकास है – वास्तविकता की चिंता हमें नहीं हैं – हमारी तो आदत हमेशा से ही ऐसी थी । अब हमलोगों की सड़क यात्रा में फिजीकल फिटनेस हो जाता है ।

4. सड़क यात्रा से याद पड़ा, वैसे भी कौन किसके घर जाता है । हमारी पड़ोस की चाचीजी और उनकी सारी पड़ोसिनें चाट कंफ्रेस करती है । फिर जब किसी को कुछ मौका आता है याद दिलाने का तो पिछला चाट कट-पेस्ट करती है । वैसे उनका आजकल चैट का टापिक है – यादव जी के बेटे की शादी लेकर । अमुक यादव जी की बेटे की शादी , झा जी के बेटी से हो रही है । लगे हाथ कह दू कि आजकल जात-पात वाली बात नहीं है । लेकिन प्राबलम एक ही है – वे कहते है लड़के ने कभी धोती पहनी ही नहीं और लड़की ने साड़ी । एक और प्रश्न यहाँ भी है कि पंडित जी मोबाईल से मंत्र नहीं पढ़ सकते हैं क्या ? ज्यादातर औरतें कंफ्रेस में तो अच्छी बातें बोलती है पर, एक दुसरी की चुगली प्राइवेट मैसेज देकर कर लेती है ।

5. बहुत लिख लिया भैया, भुख भी लगी है । अपने को तो सैंडबीच के ममेरे भाई ‘पावबीच’ से काम तो चलता नहीं सो कुछ पराठे के लिए एस एम एस बगल के होटल वाले को करता हूँ । वैसे ‘पावबीच’ के बारे में क्या बोलुँ मैं – दरअसल आजकल सुबह में मेरी मिनी दो पाँवरोटी – उफ्फ्, दो पावरोटी के बीच में टमाटर – हरा धनिया डालकर खाती है । कहती है कैलोरी कम होता है उसमें । अपने को तो सत्तु घोलकर मिलता नहीं सो हम भी हेल्थ ड्रिंक में सत्तु फ्लेवर डालकर पीते हैं । जब मुझे मन होता है खीर खाने का तो उसे सुपर मार्केट से खरीद लाता हूँ – नानीजी का, पैकेट में बिकता है । आई मिन नानीजी खीर बेचती नहीं । डब्बे पर कंपनी का नाम लिखा रहता है – नानीजी ।

Advertisements

4 comments so far

  1. अनूप शुक्ल on

    बहुत खूब। सारी इच्छायें प्राथमिकता के क्रम से पूरी हों। 🙂

  2. समीर लाल on

    सही रहा, शुभकामनायें. 🙂

  3. बहुत अच्छे !!

  4. Shrish on

    मजेदार! 🙂


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: